News Uttarakhand

परम्परागत कृषि विकास योजना में झोल।रिपोर्ट – Voice of Mountains

परम्परागत कृषि विकास योजना में झोल।

डा० राजेंद्र कुकसाल।

9456590999

– * पन्द्रह हजार करोड़ रुपए की माननीय प्रधानमंत्री जी की इस महत्वाकांक्षी योजना के क्रियान्वयन में नहीं हो रहा भारत सरकार की गाइडलाइंस तथा स्वीकृत कार्ययोजना का अनुपालन*।

– *योजना का उद्देश्य  लघु एवं सीमांत क्षेणी के पर्वतीय एवं बर्षा पर आधारित क्षेत्र के कृषकों की आर्थिक मदद कर स्थानीय परम्परागत फसलों को जैविक मोड़ में ला कर  कृषकों की आय बढ़ाना है* ।

– *किसानों को स्वयंम जैविक बीज,  खाद व कीट- व्याधि नाशक दवाओं के उत्पादन हेतु प्रेरित करने के प्रयास नहीं किये गये और न ही उन्हें इस कार्य हेतु प्रोत्साहन धनराशि उपलब्ध कराई गई*।

– *जैविक के नाम पर उद्यान विभाग ( व सभी कार्य – दायी संस्थायें ) किसानों को योजना में बांट रहे हैं उच्च कीमतों में निम्न स्तर के  बीज, दवा, खाद व अन्य सामग्री*।

जैविक कृषि विधेयक-2019 विधानसभा में पारित होने के साथ ही उत्तराखंड जैविक एक्ट लाने वाला देश का पहला प्रदेश बन गया है। हालांकि, सिक्किम पहला जैविक राज्य है, लेकिन वहां ‘एग्रीकल्चर, हॉर्टिकल्चर इनपुट एंड लाइवस्टॉक फीड रेगुलेटरी एक्ट-2014’ के तहत कदम उठाए गए।

उत्तराखंड में जैविक खेती की संभावनाओं को देखते हुए इस दिशा में बर्ष 2003 से ही प्रयास शुरू हो गये थे।

 दिनांक 01अप्रेल, 2003 को तत्कालीन प्रमुख सचिव एवं आयुक्त, वन एवं ग्राम्य विकास उत्तराखंड शासन की अध्यक्षता में आयोजित जैविक कृषि से संबंधित बैठक का आयोजन किया गया।

 बैठक में निर्णय लिया गया कि प्र्रदेश के बर्षा आधारित पर्वतीय क्षेत्र में शत् प्रतिशत जैविक कृषि का कार्य क्रम अपनाया जाय तथा मैदानी क्षेत्रों में कृषकों को जैविक कृषि वैकल्पिक रूप में अपनाने हेतु प्रेरित किया जाय।

बैठक में वृहद चर्चा व विचार विमर्श के बाद राज्य में जैविक खेती को बढ़ावा देने हेतु 28 मानक निर्धारित किए गए जिनके अनुपालन हेतु शासन द्वारा समय-समय पर सम्बन्धित विभागों को शासनादेश जारी किए गए। उक्त बैठक की कार्यवृत उत्तरांचल शासन,कृषि एवं कृषि विपणन अनुभाग, संख्या – 517/कृषि/2002-2003 दिनांक 05 अप्रेल 2003 को जारी हुई।

प्र्रदेश को जैविक प्रदेश बनाने हेतु लगातार प्रयास होते हुए दर्शाया गया जिसके आधार पर  माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा बर्ष 2017 में केदारनाथ यात्रा के दौरान उत्तराखंड प्रदेश को जैविक प्रदेश बनाने की घोषणा की गयी इसी को मूर्तरूप देने हेतु  परम्परागत कृषि विकास  योजना राज्य में प्रारंम्भ की गई।

पारम्परिक कृषि विकास योजना का मुख्य उद्देश्य लघु एवं सीमांत क्षेणी के पर्वतीय एवं बर्षा पर आधारित क्षेत्र के कृषकों की आर्थिक मदद कर स्थानीय परम्परागत फसलों को जैविक मोड़ में ला कर  कृषकों की आय बढ़ाना है जिससे उनके जीवन स्तर में सुधार हो सके।

इस योजना में क्लस्टर मोड पर ऑर्गेनिक कृषि को प्रोत्साहन देने के लिए 50 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर की दर से धनराशि किसानों को दी जाती है, जो तीन वर्षों के लिए देय होती है।

योजना में डी.बी.टी. ( सीधे कृषक के खाते में ) के माध्यम से निवेशों हेतु प्रोत्साहन धनराशि 10000/ है० कृषकों को देने का प्राविधान है।

परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत जैविक खेती को सहभागिता प्रतिभूति प्रणाली यानी पी.जी.एस. ( पार्टिसिपेट्री गारंटी सिस्टम ) और क्लस्टर पद्धति से जोड़ा गया है।

 पी.जी.एस. में लघु जोत किसान या उत्पादक एक-दूसरे की जैविक उत्पादन प्रक्रिया का मूल्यांकन, निरीक्षण व जांच कर सम्मिलित रूप में पूरे समूह की कुल जोत को जैविक प्रमाणीकृत करने का प्राविधान हैं।

कृषि निदेशालय उत्तराखंड, देहरादून के पत्रांक- कृ०नि०/25/जैविक/ पी०के०वी०वाई०/2020 – 21/देहरादून दिनांक 09 अप्रेल 2020 के द्वारा परम्परागत कृषि विकास योजना 2019 – 20 हेतु भारत सरकार द्वारा प्रथम किस्त के रूप में रु० 3550.53 लाख की धनराशि अवमुक्त की गई है।

परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत राज्य में औद्यानिकी विकास के लिए उद्यान विभाग को 1241 क्लस्टर विकसित करने का जिम्मा सौंपा गया है। इनमें 1206 औद्यानिकी और 35 जड़ी-बूटी के क्लस्टर हैं।  वर्ष 2018-19 से पी.के.वी.वाई. में उद्यान विभाग को अब तक 40.27 करोड़ की धनराशि जारी की जा चुकी है।

शासन द्वारा विभागों को समय-समय पर स्वयंम सहायता समूहों से कम्पोस्ट खाद केचुयें की खाद बनाने व योजनाओं में उन्हें क्रय करने तथा स्थानीय उत्पादों के जैविक बीज उत्पादन हेतु  निर्देश दिए जाते रहे हैं।

उद्यान विभाग द्वारा जैविक खेती के नाम पर  समय-समय पर आवंटित बजट से  केवल और केवल टेंडर प्रक्रिया से उच्च दरों पर निम्न स्तर के फल पौध, बीज दवा , खाद व अन्य सामग्री क्रय कर किसानों को बांटा है।

किसानों से स्वयंम जैविक बीज  खाद व कीट व्याधि नाशक दवाओं के उत्पादन हेतु कभी भी प्रेरित नहीं किया गया और न ही उन्हें इस कार्य हेतु प्रोत्साहन  धनराशि उपलब्ध कराई गई।

*परम्परागत कृषि विकास योजना का जो प्रस्ताव जिसके आधार पर योजना को स्वीकृति मिली उसका सारांश निम्नवत् से है*-

 उत्तराखंड प्रदेश, प्राकृतिक दृष्टि से परम्परागत कृषि के लिए उपयुक्त हैं। प्रदेश में कुल कृषि क्षेत्र का लगभग 54 प्रतिशत पर्वतीय एवं बर्षा आधारित क्षेत्र है।

जलवायु विविधता के कारण यहां कई प्रकारकी *स्थानीय* फसलें फल ,जड़ी- बूटी,पुष्प, सुगन्धित पौधे आदि की खेती की जाती है।

प्रदेश में उगाई जाने वाली परम्परागत फसलें पोष्टिक होने के साथ साथ औषधीय गुणों से भरपूर है। इन उत्पादों को जैविक मोड़ में उगाया जाता है तो इनका महत्व एवं व्यापारिक सम्भावनायें और अधिक बढ़ जाती है*।

प्रस्ताव से स्पष्ट है कि-

उद्यान विभाग द्वारा स्थानीय परम्परागत औद्यानिक फसलें यथा आलू, अदरक, प्याज, लहसुन, अरबी ,मसाला मिर्च, राई, गोल मूला आदि जिनका पर्वतीय क्षेत्र के किसान पीढ़ी दर पीढ़ी व्यवसायिक खेती करते आ रहे हैं के बीजों से ही जैविक क्लस्टर विकसित किए जाने थे*।

बर्षा आधारित पहाड़ी क्षेत्रों में उगाई जाने वाली परम्परागत फसलें क्षेत्र विशेष की भूमि में रचे-बसे होते हैं इनमें सूखा व अधिक बर्षा सहने की क्षमता अधिक होती है, कीट व्याधि का प्रकोप भी इन पर कम होता है  इन फसलों के उत्पाद पोष्टिक होने के साथ – साथ औषधीय गुणों से भरपूर होते है। इन उत्पादों को जैविक मोड़ में उगाया जाता है तो इनका महत्व एवं व्यापारिक सम्भावनायें और अधिक बढ़ जाती है।

विभाग द्वारा कहीं कहीं अदरक,हल्दी, लहसुन, आलू व मसाला मिर्च के जैविक कलस्टर विकसित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। किन्तु वहां पर भी अधिकतर  निम्न स्तर के बीज बाहर के राज्यों से लाकर परम्परागत फसलों के बीजों को नष्ट किया जा रहा है।

 सभी जनपदों में विभाग की अन्य योजनाओं की भांति ही माननीय प्रधानमंत्री मंत्री जी की इस महत्वाकांक्षी योजना में भी निम्न स्तर के बीज , फल पौध, जैविक खाद ,जैविक कीट व व्याधिनाशक दवायें व अन्य निवेश खरीद कर  कृषकों को वितरित कर इस महत्वाकांक्षी योजना की इति श्री की जा रही है  जो कि भारत सरकार से स्वीकृत कार्य योजना के विपरीत है  यह एक घोर वित्तीय अनियमिता है।

पहले ही विभाग द्वारा अन्य योजनाओं में टेंडर प्रक्रिया से निम्न स्तर के अदरक, लहसुन, मिर्च व प्याज बीज मंगा कर  क्षेत्र विशेष में इन फसलों के परम्परागत बीजों को नष्ट करने का प्रयास किया गया है ।

माननीय प्रधानमंत्री जी की महत्त्वाकांक्षी परम्परागत कृषि विकास योजना का मुख्य उद्देश्य क्षेत्र विशेष में उत्पादित  स्थानीय परम्परागत फसलों यथा अनाज, दलहन, फल, सब्जी, पुष्प, जड़ी बूटी एवं संगध पाद आदि का चयन , संरक्षण व संमवर्धन  कर उत्पादन बढ़ाना तथा इन उत्पाद को जैविक मोड़ में कर विपणन की व्यवस्था करना है जिससे कृषकों की आय में वृद्धि हो सके। किन्तु विभाग इसके विपरीत योजना में बाहरी क्षेत्रों से विना परीक्षण व संस्तुति के जैविक बीज के नाम पर बीज मंगा कर यहां की परम्परागत फसलों को नष्ट करने का प्रयास कर रहा  है।

परम्परागत कृषि विकास योजना में कृषकों को वितरित की जाने वाली जैविक दवायें निम्न स्तर की है इन दवाओं में उपलब्ध जीवाणु व बीषाणु कम समय तक सक्रिय रहते हैं अधिक व कम तापमान पर ये शीघ्र नष्ट हो जाते हैं।

जब से राज्य बना जैविक के नाम पर रुद्रपुर, काशीपुर, व विकास नगर में स्थापित कुछ कम्पनियों विभागीय अधिकारियों से मिलकर टेंडर प्रक्रिया से अपनी दरें अनुमोदित कराकर विभाग को योजनाओं में निम्न स्तर की इन दवाओं की आपूर्ति करती आ रही है। इन दवाओं का प्रयोग कृषक नहीं करते कभी कभी तो दवा के ये पैकैट गाड़ गधेरौं में पढ़ें मिलते हैं। यही नहीं इनमें से कई कम्पनियों ने तो गैर सरकारी संगठन N GO भी बना रखे हैं तथा विभागीय अधिकारियों से सांठगांठ कर  विभिन्न जनपदों में परम्परागत कृषि विकास योजना का संचालन भी कर रहे हैं।

माननीय प्रधानमंत्री जी की पन्द्रह हजार करोड़ रुपए की इस महत्वाकांक्षी योजना, जिसका उद्देश्य लघु एवं सीमांत क्षेणी के पर्वतीय एवं बर्षा पर आधारित क्षेत्र के कृषकों की आर्थिक मदद से स्थानी परम्परागत फसलों को जैविक मोड़ में कर  कृषकों की आय दोगुनी करने का है ।

कृषकों की आय तो दोगनी होने से रही नौकरशाह व बीज दवा खाद आपूर्ति करने वालों की आय अवश्य कई गुना बढ़ रही है।

परम्परागत कृषि विकास योजना में औद्यानिक कार्यौ की थर्ड पार्टी द्वारा जांच की बात सरकार कर रही है किन्तु जब विभागों के नौकरशाह (शासन प्रशासन) निवेश आपूर्ति करता फर्में व निवेश क्रय करने वाले विभागों की ही टेस्टिंग लैब विगत बीस बर्षो से साथ मिलकर  काम कर रहे हों जांच निश्पक्ष व प्रभावी होगी उम्मीद करना बेमानी है।

उत्तराखंड में कार्यदाई विभागों द्वारा जैविक खेती के नाम पर कृषकों को टैन्डर प्रक्रिया से क्रय किए गए निम्न स्तर के बीज, दवा, खाद आदि सामाग्री बांट कर योजना की इति श्री कर दी जाती है कभी भी सिक्किम राज्य की तरह किसानों को स्वयंम जैविक बीज -खाद  उत्पादन हेतु प्रेरित नहीं किया गया।

उच्च स्तर पर योजनाओं का मूल्यांकन सिर्फ इस आधार पर होता है कि विभाग को कितना बजट आवंटित हुआ और अब तक कितना खर्च हुआ राज्य में कोई ऐसा सक्षम और ईमानदार सिस्टम नहीं दिखाई देता जो धरातल पर योजनाओं का ईमानदारी से मूल्यांकन कर   योजनाओं में सुधार ला सके।

राज्य में जैविक एक्ट लागू कर देश में जैविक एक्ट वाला पहला प्रदेश उत्तराखंड कह कर राज्य जैविक प्रदेश नहीं बनने वाला। जबतक कार्य दायी विभागों के नौकरशाह व दवा बीज कम्पनियों के (माफिया) संगठित भ्रष्टाचार करने वालौं को वेनकाब कर सजा नहीं दी जाती तथा योजनाओं के क्रियान्वयन में पारदर्शिता नहीं लाई जाती उत्तराखंड जैविक प्रदेश बनेगा यह सोचना वेमानी है।

———————————–

राज्य में परम्परागत कृषि विकास योजना से कृषकों की आय कैसे दोगनी हो रही है पढ़ें सोसल मीडिया की कुछ टिप्पणियां-

बरिष्ट पत्रकार श्री वीजेंद्र सिंह रावत  तथा श्री नीरज उत्तराखण्डी  की ये रिपोर्ट।

———————————————-

श्री विजेन्द्र सिंह रावत –

उत्तराखंड बागवानी विभाग का कमीशन करिश्मा, घटिया टमाटर के बीज से किसानों की लाखों की मेहनत पर पानी फेरा…!

इसीलिए प्रदेश का कोई भी बागवान अनुदान के बावजूद बागवानी विभाग से नहीं लेता, बीज, खाद व कीटनाशक।

मोटा कमीशन लेकर घटिया कम्पनियों से होती है, करोड़ों की खरीद।

यों लुटता है जनता का पैसा और चौपट होती हैं फसलें।

हिमाचल प्रदेश में सिर्फ नामी और प्रतिष्ठित कंपनियों से होती है खरीद।

लगता है इस सरकारी महा घोटाले के खिलाफ हाईकोर्ट की शरण में जाना पड़ेगा…….और जिम्मेदार अधिकारियों पर ठोका जायेगा किसानों की बर्बादी का करोड़ों का मुकदमा…!

—————————

श्री नीरज उत्तराखण्डी

20अगस्त 2020 त्यूनी  देहरादून ।

बोलती तस्वीर!

—खराब निकले टमाटर के बीज ने काश्तकारों की मेहनत और उम्मीदों पर पानी फेरा पानी

आसमान  से छूटे खजूर पर अटके ।जी हां ऐसी ही कुछ हालत है टमाटर की फसल खराब हुए किसानों की। उद्यान विभाग की लापरवाही और गैरजिम्मेदारी किसानों  की आजीविका पर भारी पड़  रही है। और  उद्यान विभाग  द्वारा काश्तकारों को निम्न गुणवत्ता का बीज दिये जाने का खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ रहा है।

किसानों ने उद्यान अधिकारी को  ज्ञापन भेजकर उचित मुआवजे की मांग की है ।

जनपद देहरादून के पर्वतीय जनजाति क्षेत्र जौनसार बावर की तहसील त्यूनी के ग्राम पंचायत कुल्हा के विऊलोग तथा मुन्धोल ग्राम पंचायत के चांदनी वस्ती खेड़ा में  एक दर्जन  से अधिक किसानों  ने टमाटर की नगदी फसल की खेती इस उम्मीद  से की थी कि उनकी आर्थिक मजबूत होगी और घर का खर्चा भी चलेगा साथ ही दवा खाद का व्यय भी वसूल होगा । लेकिन  उन्हें  क्या  पता था की उद्यान विभाग ने जो  टमाटर  का  कथित  जैविक बीज उन्हें  उपलब्ध  करवाया है वह निम्न गुणवत्ता का होगा और उनकी मेहनत और उम्मीद पर पानी फेर देगा।

बताते  चलें कि उद्यानविभाग  ने डेढ़ दर्जन  से अधिक  काश्तकारों को क्षेत्र में पीकेबीवाई के अंतर्गत   टमाटर का  जो कथित जैविक बीज देकर दावा किया कि यह उत्तम गुणवत्ता का बीज है इससे पैदावार अच्छी  होगी और उन्नत गुणवत्ता के फल लगने से बाजार  में  इसकी मांग  काफी है जो कम लागत  पर अधिक उत्पादन देता है। जिससे आर्थिकी को संभल  मिलेगा और आय अर्जित करने का एक बड़ा जरिया साबित होगा । लेकिन  वक्त  ने विभाग के सारे  दावे और बीज की हकीकत की पोल खोलकर रख दी। दिन रात  पसीने से नहाने  वाले किसानों के खून पसीने मेहनत मिट्टी में  मिल गई। बीज  और फल इतना  घटिया निकला कि किसानों  को टमाटर  खेत में  ही छोड़ने को मजबूर  होना पड़ा । टमाटर के मरियम पौध उस पर लगे निम्न गुणवत्ता के टमाटर जिसकी कोई  बाजार वैल्यू नहीं ।  किसानों  ने जब विभाग को अवगत कराया  तो टीम ने खानपूर्ति के लिए  खेतों का निरीक्षण तो किया  लेकिन  किसानों को  क्षतिपूर्ति  की कोई भरपाई की और न ही मुआवजा ही दिया  गया ।

 ज्ञान सिंह, सुरत सिंह, नरेन्द्र, जवाहर सिंह प्रताप सिंह, सुमित्रा देवी, प्रकाश, कमाल चंद, भगत राम हरिमोहन आदि काश्तकारों  ने बताया कि विभाग द्वारा उन्हें बीज दिया गया  वह घटिया गुणवत्ता का निकला जिससे उन्हें काफी नुकसान उठाना पड़ा ।  फसल जब फलन में आई तो उसका फल बेकार निकला जो घटिया गुणवत्ता के चलते बाजार भाव की प्रतिस्पर्धा में पीट गया । घटिया उत्पादन के जलते टमाटर तोड़ना ही छोड़ना।

काश्तकारों ने मुख्य उद्यान अधिकारी को ज्ञापन भेजकर उचित मुआवजा दिये जाने की मांग की है ।

इस संबंध में जब काश्तकारों को दिये गये  विभाग के अधिकारी जसोला के मोबाइल नंबर पर उनका पक्ष जानने के लिए सम्पर्क किया गया तो संपर्क नहीं हो सका।

————————————

रुद्रप्रयाग जनपद-

श्री दिनेश जोशी रुद्रप्रयाग-

तराई क्षेत्र मै जो उधोग कृषि यंत्र,दवाईयों,रसायनिक के खुले हैं उनकी सारी बिक्री उधान एव कृषि बिभाग को ही होती है, दवाईयों का सैम्पल फर्जी होता है, सैम्पल भी विभाग की लैव मै होता, जिसका मुखिया भी वही होते हैं, जो अनुदान भारत सरकार या प्रदेश सरकार देती है उसका 50% तो दवाई, बीज ,घटिया रसायन मै  ब्यय होता है, कमीशन की बंदर वांट देखो, टैण्डर निदेशालय स्तर पर 20% कमीशन, क्रय जिला स्तर पर 20 से 25% मुख्य उधान या मुख्य कृषि अधिकारी स्तर पर बंदर वाट कर शेष 60% मै 40% फैक्ट्री मालिक का और कास्तकारों को मिला 20%, यह हाल है 2022 तक मोदी और उत्तराखण्ड मै त्रिवैन्द्रम जी की घोषणा थी किसानो की आय दुगनी करना, परन्तु आजकल दोनो  जुमलेबाज कही नही कह रहे कि 2022 तक दुगनी आय, हा यदि सीबीआई जांच हो तो  उधान और कृषि विभाग के निदेशालय, जनपद लेविल के अधिकारियों की आय अवश्य दुगनी 2022 से पहले मिल जायेगी, अव रहा क्लस्टर पर कृषि यंत्र की तो 10% किसान समुह और 90% अनुदान, फर्जी  समुह वना कर एक लाख 10% का एक से जमा करवा कर वाकी 8 लाख का वारा न्यारा दोनो विभाग कर रहे हैं, अरे मूर्ख अन्धभक्तो जव पलायन आयोग की रिपोर्ट वोल रही है कि पौडी, चमोली, रुद्रप्रयाग, टिहरी, उत्तरकाशी एव कुमायू मै पलायन हुआ, पहाड मै 60% खेती, बाग बंजर है तो 100% अनुदान किसको दिया, यदि त्रिवैन्द्रम सरकार जीरो टालरेन्स की बात करती है तो समाजकल्याण विभाग की तरह कृषि और उधान विभाग की जांच सीबीआई या किसी  उच्च न्यायालय के न्यायधीस अथवा समाजकल्याण की तरह एस आईटी वना कर तो लाखो करोड का घोटाला सामने आयेगा तराई की फर्मे एव अधिकारी भागते फिरेगे।

श्री दिनेश जोशी-

जैविक प्रदेश वने या न वने परन्तु जैविक कार्यक्रम चलाने वाली ऐजेन्सी और उसके अधिकारियों, क्षेत्रीय कर्मचारियों की निजि आय दोगनी से चारगुनी अवश्य हौ जायेगी, यह गारन्टी  के साथ कह सकते हैं, इसमे मंत्री  से लेकर संतरी तक सभी हैं, पहाड के विशेष कर 10 जनपदों मै यदि ईमानदारी से सच्चाई सामने लाई जाय तो 70% खेती लोग छोड चुके हैं, जो लोग खेतीबारी कर रहे है वे परम्परागत खेती मै  जैविक खाद का प्रयोग आज से नही बरसों से करते आ रहे हैं, परन्तु जैविक के नाम पर मुख्य कृषि अधिकारियों से लेकर निदेशालय के अधिकारियों द्वारा कैसे सरकारी धन का बंदरबाट किया जाता है एक नजर

1:- जैविक कम्पोस्ट पिट रुद्रप्रयाग चमोली जनपद सहित 8 जिलों मै  तिरपाल और बांस की वल्लिया क्रय की गई, और बांटना दिखा, कम्पोस्ट पिट के गढे  वने, परन्तु ऐसी जगह और परिवार मै जहा पशु ही नहीं, खरीदने मै कमीशन, माल कम लाने मै कमीशन,

2:-  फार्म किसान बैंक मै 10 लाख गाव मै समिति वना कर 10% पर कृषि यंत्र  को करोडो का बजट आया अब बन्दर बांट, क्षेत्रीय  कर्मचारियों ने फर्जी समिति वनाई , उससे एक लाख अंशदान दिखाना लिया, और 10 लाख के माल की जगह धटिया कमीशन का माल 2 लाख का लिया , और बाकी माल का पैसा तथा कमीशन हडप लिया,

ऐसे सभी योजनाओ के हाल न कृषि निदेशक देखने, न  मण्डलीय निदेशक, न कृषि अधिकारियों को फुरसत,  यदि मुख्य मत्री  एस आई टी जाच करैं तो वर्तमान और पूर्व सभी जेल मै हों परन्तु जब राजा ही लिप्त हो तो प्रजा के क्या हाल,

यही हाल राज्य के सभी जनपदों के हैं।

श्री नरेन्द्र मेहरा जी हल्द्वानी गौला पार में जैविक खेती करते हैं उनके द्वारा माननीय प्रधानमंत्री जी को लिखा पत्र।


Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please Disable your Adblocker
%d bloggers like this: